शोभित जैन
कुछ समय पहले एक फिल्म देखी थी "लव आजकल" तो सोचा उसी फिल्म को अपने शब्दों में अपने ब्लॉग पर रिलीज़ किया जाये ....वैसे भी आजकल रीमेक का समय चल रहा है तो क्यूँ ना हम भी अपने हाथ आजमां लें ...अपने अंदाज़ में .....बस उस फिल्म और इस फिल्म में इतना ही अंतर है की उसमें दो कहानियों के दो अलग अलग हीरो थे ...और इसमें दोनों के लेखक और हीरो एक ही हैं जो "Love कल" की खोज में हैं पर जिंदा रहने के लिए "Love आज" से दिल बहला रहें हैं ...

Love आज :-
लड़कियां छेड़ते नहीं, हम पटाने के लिए
बस कुछ किस्से बनाते हैं, दोस्तों को सुनाने के लिए


तस्वीरें किसी की दिल में आज कौन रखता है
फिर भी तस्वीर तेरी चाहिए, पर्स में लगाने के लिए

लबों पर उसका नाम आया नहीं अचानक
एक शिगूफा छेड़ा था, तुझे जलाने के लिए

रूठना तो हुस्न की अदा है और हक भी
हजारों तरीके हम भी रखते हैं, मनाने के लिए

(तो यह है जनाब आज का Love जिसने "Emotions " को अत्याचार और इश्क को कभी "कमबख्त" तो कभी "कमीना" बना दिया .... अब चलतें है उस उस दौर की तरफ जहाँ इश्क को इबादत मानकर जिया जाता था ....)

Love कल :-
तबियत भी ठीक थी , दिल भी बेकरार था
वो वक्त और था, जब किसी से प्यार था !
होश में रहते थे हम , आँखों में यूं खुमार था
अदायों से अनजान थे , पागलो में शुमार था !!
वो वक्त और था .....

बेसब्र तो पहले भी बहुत थे हम ,
हर वक्त किसी का यूं इंतज़ार था
तसवीरें भी बहुत देखी थी मगर ,
हर तस्वीर के लिए दिल दीवार था !!
वो वक्त और था .....

बात निगाहों से होकर दिल तक पहुँचेगी,
इल्म इसका हमको सरकार था !
खता होनी थी सो हो गई निगाहों से ,
दोनों में कोई कसूरवार था !!
वो वक्त और था...

वो वक्त और था , जब किसी से प्यार था .............
8 Responses
  1. बढ़िया रहा यह लव आज कल का लिखा जाना सही लिखा है शुक्रिया



  2. बेनामी Says:

    bahu badiya lekh he


  3. यूँ ही बना रहेगा



  4. लव आज कर की अच्छी दास्तान ........ स्वागत है आपके नये ब्लॉग का ..........




एक टिप्पणी भेजें